धरती गोल, तो मानचित्रों में उत्तर दिशा ऊपर क्यों?

आपने मानचित्र तो तमाम देखे होंगे। विश्व का मानचित्र, भारत का मानचित्र, एशिया का, अफ्रीका का, यूरोप का या फिर अमरीका का मानचित्र। सभी मानचित्रों में उत्तर दिशा को ऊपर दिखाया जाता है। क्या कभी आपने सोचा है कि ऐसा क्यों किया जाता है? जबकि धरती तो गोल है।
अगर इसको आसमान से देखें तो क्या आपको ऊपर से उत्तर सबसे ऊपर नज़र आएगा? आपका जवाब शायद हां में हो। क्योंकि बचपन से आप मानचित्र में उत्तर दिशा को ऊपर जो देखते आ रहे हैं। मगर, आपका ख़्याल ग़लत है। वैसे उत्तर दिशा को सबसे ऊपर समझने का ग़लत ख़्याल सिर्फ़ आपका नहीं, पूरी विश्व ही ऐसा समझता, मानता है।
मगर, सच तो ये है कि ऐसा बिल्कुल नहीं है। वैज्ञानिक आधार पर कोई ये नहीं कह सकता कि उत्तर दिशा सबसे ऊपर होती है।
फिर आख़िर क्यों हर मानचित्र में उत्तर दिशा को ऊपर दिखाया जाता है?
इस सवाल का जवाब, इतिहास, खगोलशास्त्र और मनोविज्ञान की मिली-जुली पड़ताल में छुपा है।
मगर नतीजे में ये बात पता चलती है कि हमने मानचित्रों को जिस तरह बनाया है, वैसा ही हम आज महसूस करने लगे हैं। कोई भी जीव जहां रहता है, उसके आस-पास का मानचित्र उसके मस्तिष्क में रहता है। ज़ाहिर है, मानव का मस्तिष्क सबसे तेज़ है, तो उसके मस्तिष्क में आस-पास का अच्छा मानचित्र बना होता है। मानव अपने मस्तिष्क में बने इस ख़ाके को दूसरों से साझा भी करना चाहता है। ऐसा हम हज़ारों साल से करते चले आ रहे हैं। सबसे पुराने मानचित्र, क़रीब चौदह हज़ार साल पुराने हैं जो आदि मानव ने गुफाओं की दीवारों पर उकेरे थे। तमाम सभ्यताओं में पत्थर से लेकर ताड़पत्र तक, मानचित्र बनाने का चलन था।
आज तो काग़ज़ से लेकर कंप्यूटर स्क्रीन तक पर किसी जगह का ख़ाका तैयार किया जाता है। मानचित्र बनाने के इतने पुराने अनुभव के बावजूद, हमारे मानचित्रों में उत्तर दिशा को ऊपर दिखाने का चलन ज़्यादा पुराना नहीं है।
ऐसा पिछले कुछ सौ सालों में ही हुआ है। पिछली कुछ सदियों को छोड़ दें तो कभी भी उत्तर दिशा को ऊपर नहीं दिखाया गया।
जेरी ब्रॉटन, लंदन की क्वीन मेरी यूनिवर्सिटी में नक़्शों के इतिहासकार हैं। वो कहते हैं कि पुराने मानचित्रों में शायद ही कभी उत्तर दिशा को ऊपर दिखाया जाता रहा हो। इसकी वजह ये थी कि लोग मानते थे कि अंधेरा उत्तर से आता है। इसी वजह से कभी पश्चिम दिशा को मानचित्र में ऊपर नहीं उकेरा गया।
मगर, पुराने चीनी मानचित्र इसके उलट थे। उनके पास दिशा बताने वाला यंत्र कम्पास तो काफ़ी पहले से था। कम्पास हमेशा उत्तर दिशा की तरफ़ इशारा करता है। मगर चीनी कम्पास, दक्षिण की तरफ़ इशारा करते थे। हालांकि उनके मानचित्रों में उत्तर को ऊपर का दर्जा देने की ये वजह बिल्कुल नहीं थी। चीन के पुराने मानचित्रों में उत्तर दिशा को ऊपर रखने की वजह ये थी कि उनके राजा देश के उत्तरी इलाक़े में रहते थे। तो वहां की परंपरा के हिसाब से राजा, अपनी जनता को नज़र नीची करके देखता था। वहीं प्रजा, राजा के सम्मान में सिर ऊंचा करके उसकी तरफ़ देखती थी। चीनी राजा इसलिए भी दक्षिण की तरफ़ मुंह करके देखता था क्योंकि ये माना जाता था कि दक्षिण से ताज़ा हवा आती है। जेरी ब्रॉटन कहते हैं कि चीन के लोग, उत्तर दिशा को बहुत अच्छा नहीं मानते थे।
तो हर सभ्यता की अलग-अलग मान्यताओं की वजह से हर मानचित्र में अलग-अलग दिशा को ऊपर रखने का चलन था। जैसे कि मिस्र में पहले विश्व का ऊपरी हिस्सा पूरब को माना जाता था। इसी तरह शुरुआती मुस्लिम मानचित्रों में दक्षिण दिशा को ऊपर रखा जाता था क्योंकि इस्लाम को मानने वाले ज़्यादातर लोग मक्का के उत्तर में बसते थे। तो वो उत्तर की तरफ़ से दक्षिण की तरफ़ देखते थे।
उस दौर के ईसाई मानचित्रों में पूरब को ऊंचा दर्जा हासिल था। वो मानते थे कि आदम का बाग़ उसी तरफ़ है। उनके मानचित्र के हिसाब से येरूशलम, इसके केंद्र में होता था।
अब सवाल है कि कब सबने मिलकर ये तय किया कि उत्तर को मानचित्र में सबसे ऊपर रखा जाएगा?
कुछ लोग ये मानते हैं कि विश्व तलाशने निकले यूरोपीय खोजकर्ताओं, जैसे कोलम्बस या फर्डीनेंड मैग्लेन ने ऐसा किया होगा। लेकिन जेरी ब्रॉटन कहते हैं कि ये ख़्याल ग़लत है। कोलम्बस, उस वक़्त की ईसाई परंपरा के हिसाब से पूरब को ही मानचित्र में सबसे ऊपर मानते थे। उस दौर के ईसाई मानचित्रों को ‘मप्पा मुंडी’ कहा जाता था।
जानकार मानते हैं कि उत्तर को मानचित्र में ऊपर रखने की शुरुआत जेरार्डस मर्काटर नाम के मानचित्रनवीस ने की थी। वो बेल्जियम के रहने वाले थे, जिन्होंने 1569 में उस वक़्त का धरती का सबसे सटीक मानचित्र बनाया था।
जिसमें पहली बार धरती के घुमाव को भी शामिल किया गया था। मर्काटर ने ये मानचित्र, नाविकों के लिए बनाया था। वैसे जेरी ब्रॉटन कहते हैं कि मर्काटर के मानचित्र में भी उत्तर दिशा को तरजीह नहीं दी गई थी। उन्होंने तो ध्रुवों को अनंत दिखाया था। जिसका कोई ओर छोर नहीं। जेरी कहते हैं कि ऐसा इसलिए था कि लोग उत्तर को अहमियत नहीं देते थे। किसी को उस तरफ़ जाना भी नहीं होता था। फिर भी मर्काटर, किसी और दिशा को भी उत्तर की जगह ऊपर रख सकते थे। ये माना जाता है कि उत्तर को ऊपर रखने की वजह ये थी कि यूरोपीय लोग उस वक़्त उत्तरी गोलार्ध की ही खोज कर रहे थे। इसी वजह से मानचित्र में उसे मर्काटर ने ऊपर की तरफ़ रखा।
इसकी वजह कोई भी रही हो, तभी से मानचित्रों में उत्तर को ऊपर रखा जाने लगा।
1973 में नासा के लिए एक अंतरिक्ष यात्री ने आसमान से धरती की तस्वीर ली। इस तस्वीर में दक्षिण दिशा ऊपर की तरफ़ थी। मगर लोग गफ़लत में न पड़ें इसलिए तस्वीर जारी करने से पहले नासा ने इसे घुमाकर उत्तर दिशा को ऊपर की तरफ़ कर दिया। वैसे अंतरिक्ष में ऊपर या नीचे कुछ होता नहीं, क्योंकि अंतरिक्ष तो अनंत है।
हमें ब्रह्मांड के ओर-छोर के बारे में कुछ ठोस बात पता नहीं, इसी तरह हमारी आकाशगंगा या हमारा सौरमंडल भी ऊपर या नीचे की परिकल्पना से परे है।उत्तर दिशा ऊपर होगी या दक्षिण, ये कहने की ज़रूरत ही नहीं। ब्रह्मांड में ऊपर या नीचे का ख़्याल कहीं ठहरता ही नहीं।
तो, शायद अब वक़्त आ गया है कि हम अपने मानचित्रों को नए सिरे से बनाएं। धरती को नए नज़रिये से देखने की कोशिश करें। आज की तारीख़ में हमारी पीढ़ी के लिए धरती में ज़्यादा कुछ खोजने के लिए बचा नहीं। ऐसे में मानचित्र को उलट-पुलट कर देने से धरती को देखने का हमारा नज़रिया बदलेगा।
मशहूर फ्रेंच उपन्यासकार मार्सेल प्रूस्ट ने कहा था कि हमें अपनी विश्व को नए नज़रिए से, नई नज़र से देखना चाहिए।

Related Posts

About The Author

Leave a Reply

1 Comment on "धरती गोल, तो मानचित्रों में उत्तर दिशा ऊपर क्यों?"

Notify of

Sort by:   newest | oldest | most voted
Guest
Sachin Agrawal
10 months 18 days ago

Nice Analogy Peeyush! Thanks for Sharing

wpDiscuz
GKC 2.1 Entry has been Closed.
Sign Up
Fields with (*) are required
Account Info
Password must be at least 7 characters long. To make it stronger, use upper and lower case letters, numbers and symbols.
Type your password again.
 
Profile Info
 
 
Prove you're not a robot